top of page

Dhara 307 Lyrics Monu Albela and Shilpi Raj



Dhara 307 Lyrics


जान रह ताड़ काहे दूरे दुरे

हमार सपना क देबअ का चूरे चूरे



भूल जो रे पगली प्यार तेहू अब मान ले हमारा बात के

खोजे पुलिस दिन रात के धारा लागल 307 के


प्यार के भूत अपना दिल से मिटाद

रिश्ता जवन रहे सब तू भूलाद


कइसे जीयब रे पगला तोरा बिना

अब तेरे बिना भी मेरा क्या जीना


कबहू आरेस्ट हो जाईब जानू मिली ना दिन मुलाकात के

खोजे पुलिस दिन रात के धारा लागल 307 के


आज से ना मिले अइबू किरीया तू खालअ

शुभम के साथे आपन घर बर बसाल


ई जवानी बा तहरे नाम के सनम

छोड़ी मोनू के दोसरा के बनब ना हम


कइसे अब समझाई ए दादा ई लइकिन के जात के

ह त खोजे पुलिस दिन रात के धारा लागल 307 के

74 views

Related Posts

See All

Kommentare

Kommentare konnten nicht geladen werden
Es gab ein technisches Problem. Verbinde dich erneut oder aktualisiere die Seite.
bottom of page